sanskrit vyavaharik shabdawali

संस्कृत व्यावहारिक प्रकरण


कः,का = कौन। 
सः,सा = वह।
कुत्र = कहाँ। 
अस्ति = है। 
भवति = होता है/बनता है। 

(पुल्लिङ्ग में प्रायः ः से अन्त होता है, स्त्रीलिङ्ग में आ/ई से और नपुंसक में अम् से प्रायः अन्त होगा।)

शब्द/vocab = वृक्षः(पेड़), आपणम् (दुकान), गृहम् (घर), वनम् (जङ्गल), वानरः (बन्दर), काष्ठतन्तुः (झिल्ली/caterpillar), चित्रपतङ्गः (तितली), सीता, रमा, आदि। 
 
शब्द के अन्त में ए लिख दो तो अधिकरण/location का ज्ञान होगा। गृहे - घर में, वने - वन में, वृक्षे - वृक्ष पर, आपणे - दुकान में, विद्यालये - विद्यालय में। 

कुशल मतलब कल्याण/मङ्गल/शुभता। भाववाचक/abstract noun है।
कुशली मतलब कुशल-वाला पुरुष।  
रामः कुशली (राम ठीक है।)
कुशलिनी मतलब कुशल-वाली स्त्री। सीता कुशलिनी अस्ति (सीता कुशल-वाली है।)
सर्वं कुशलम् (सब कुशल/ठीक है। all is well)। सामान्ये नपुंसकम्।



      संस्कृत व्यावहारिक प्रकरण
      

तव नाम किम्? (तेरा नाम क्या?)
मम नाम अमुकः/अमुका। अहम् अमुकः/अमुका। (मेरा नाम अमुक/अमुका है। मैं अमुक/अमुका हूँ।)
कस्त्वम्? (कौन हो तुम?)
कथमसि? (कैसे हो?)

अस्ति-असि-अस्मि = है-हो-हूँ। 
सः/सा अस्ति। त्वम् असि। अहम् अस्मि। 

अत्र = यहाँ। यत्र = जहाँ। तत्र = वहाँ। 
रामः कुत्र अस्ति? 
कुत्रासि? (कहाँ हो?) अत्रास्मि। (यहाँ हूँ।)

एव = ही। (सत्यम् एव जयते, सत्य ही जीतता है।)
त्वमेव माता च पिता त्वमेव। 

रामः कृष्णः च (राम और कृष्ण)। 
सीता रामः च (सीता और राम)। 
चायं काफी वा (चाय या काफी)।
दुग्धं फलं वा (दूध या फल)।



💐
#learnsanskrit 
  
       संस्कृत व्यावहारिक प्रकरण 
   Summary of Lesson 3 & 4

प्र-पु       म-पु     उ-पु
अस्ति - असि - अस्मि (अस् = होना)
अत्ति - अत्सि - अद्मि (अद् = खाना)
भवति - भवसि - भवामि (भू = होना)
गच्छति - गच्छसि - गच्छामि (गम् = जाना)
रामः अस्ति। (राम है) 
तत् त्वम् असि। (वो तुम हो)
अहं ब्रह्म अस्मि। (मैं ब्रह्म हूँ) 

     【ति-सि-मि formula।】

ः अन्त में प्रायः कर्ता को बतलायेगा।
अम् लगाने से यह कर्म को बतलायेगा। 
रामः - राम/राम ने
रामम् - रामको।
सीता - सीता/सीता ने
सीताम् - सीता को।

रामः अन्नं पचति।
राम अन्न को पकाता है।


करोति - करोषि - करोमि
रामः कार्यं करोति। (राम कार्य को करता है।)
त्वं किं करोषि? (तुम क्या करते हो?)
अहं भोजनं करोमि। (मैं भोजनको करता हूँ।)

सः - वह (पु)। सा - वह (स्त्री)। तत् - वह (नपुं)। 
सः वृक्षः अस्ति। सा माला अस्ति। तत् फलम् अस्ति। 

कः-का-किम्। 
सः कः? सा का? तत् किम्?

तम् - उसको (पुं), ताम् - उसको (स्त्री), तत् - उसको (नपुं)।
कम्-काम्-किम् = किसको (तीनों लिङ्गों में)।

राम उसको देखता है, तीनों लिङ्गों में।
रामः तं पश्यति। (पुं)
रामः ताम् पश्यति। (स्त्री)
रामः तत् पश्यति। (नपुं)


         संस्कृत व्यावहारिक प्रकरण 
         

एषः - एषा - एतत् (यह, 3 लिङ्ग)
एषः केशवः (यह केशव है।)
एषा सीता। एतत् गृहम्।।
यः-या-यत् (3)।।

इसको (3) एतम्-एताम्-एतत्।
एतम् इच्छामि (इसको चाहता हूँ)
एताम्-एतत् इच्छामि।।

त्वम् - तुम/तुमने। त्वाम् = तुमको।।             
अहम् - मैं/मैंने। माम् = मुझको।।
त्वां प्रीणामि (तुझको प्यार करता हूँ।)
माम् प्रीणासि (मुझको प्यार करती हो।)


👍 अपने मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें

Related Post