संस्कृत माहेश्वरी सूत्र

ये १४ सूत्र माहेश्वर सूत्र कहलाते है। इनसे अण् आदि प्रत्याहार संज्ञाएँ बनती है। ये संज्ञाएँ पाणिनि के व्याकरण मे सर्वत्र प्रयुक्त है। इन सूत्रों मे अंतिम वर्ण अनुबन्ध कहलाता है जिसकी इत्संज्ञा होती है। इत्संज्ञा का प्रयोजन उसका लोप करना है। हकारादि व्यंजन 'अ' स्वरयुक्त पढ़े गए है क्योंकि व्यंजनों का प्रयोग स्वरों की सहायता के बिना नही हो सकता। परंतु लण् सूत्र में ल् के साथ आने वाला अकार इत्संज्ञक है।



१.अ इ उ ण् ।
२. ऋ ऌ क् ।
३.ए ओ ङ् ।
४.ऐ औ च् ।
५. ह य व र ट् ।
६. ल ण् ।
७. ञ म ङ ण न म् ।
८. झ भ ञ् ।
९. घ ढ ध ष् ।
१०.ज ब ग ड द श् ।
११.ख फ छ ठ थ च ट त व् ।
१२. क प य् |
१३.श ष स र् ।
१४.ह ल् ।

Related Post